दरवाजे

by Vivek Mishra


बंद कर दो ये दरवाजे या .. ये खिड़कियाँ खुली रहने दो.

शायद हवा रुक रुक के आए . झोंके तो ठीक  हैं ….पर ये बवंडर!….ये बवंडर बहा ले जाता है. देखो कुण्डी मजबूती से लगाना पता नही कब सब्र की तरह टूट जाए.

बंद दरवाज़े हमेशा किसी आहट को सुनना चाहते हैं ..पर… बंद ही रहने दो…  झोंके ही ठीक हैं​

                                                                                                                                -​विवेक