पत्ता

by Vivek Mishra


पत्ता गिरा तो था..पर मिला नही..
बहती हवा में कहीं उड़ गया होगा…या एक झोंके से बिखर गया होगा..
चलो ढूड़ते हैं..बिखरा होगा तो समेट लेंगे..
मिल ही जाएगा..शायद हवा वापस ले आयेगी…फिर यही..कहीं पास..या थोड़ी दूर